PM विश्वकर्मा योजना । PM VISHWAKARMA YOJANA

khabarspot.com
6 Min Read
PM विश्वकर्मा योजना । PM VISHWAKARMA YOJANA

PM विश्वकर्मा योजना । PM VISHWAKARMA YOJANA

PM विश्वकर्मा योजना । PM VISHWAKARMA YOJANA

हमारे देश में हमारे देश में केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकार तक अपनी जनता के लिए अलग-अलग प्रकार की योजनाएं चलाई जाती है। इन सब योजनाओं का उद्देश्य होता है गांव के गरीब लोगों से लेकर सभी जनता तक सुविधा पहुंचाना। आज हम इस आर्टिकल PM विश्वकर्मा योजना । PM VISHWAKARMA YOJANA में ऐसी ही एक खास योजना के बारे में जानने वाले हैं।


PM विश्वकर्मा योजना एक बहुत बड़ी योजना है।केंद्र कैबिनेट की ओर से 13 हजार करोड़ की  PM VISHWAKARMA YOJANA योजना को मंजूरी दी गई है।
पीएम विश्वकर्म योजना से आपको जो मिलने वाला पैसा या लोन वह किस आधार पर मिलेगा यह हम समझ लेते हैं।क्योंकि लोगों में इस योजना को लेकर या छोटे गावो मै लोग सतर्क नहीं है।

लोग इस योजना के लिए आवेदन तो करते हैं लेकिन इस योजना का फायदा उनको मिल नहीं पता।

ऐसा क्यों होता है यह पहले हम समझते हैं आवेदन करते समय होने वाली गलतियां और कैसे आवेदन अच्छे से करें यह हम समझते हैं।


लोग इस योजना को लोन योजना समझ रहे हैं लेकिन यह लोन योजना नहीं है पर हां इतना जरूर है की इस योजना के तहत आपके बिना गारंटी पैसे मिलते हैं।

इस योजना का टाइटल अगर आप बड़े जो कि ऐसे कारागीर जो पहले से अपना बिजनेस कर रहे हैं और जिनका पहले से ही बिजनेस है ऐसे लोग इस योजना का लाभ ले सकते हैं।
     इस स्कीम का सीधा फायदा लोगों को पारंपरिक करागिरो और श्रमिकों को इस स्कीम का फायदा होने वाला है इसके जरिए सोनार हो या लोहार और नया व्यवसाय करने वालों को हर तरीके से फायदा मिलेगा।PM विश्वकर्मा योजना मै इस लोन पे सबसिडी भी दी जाती है।

PM विश्वकर्मा योजना के लाभार्थी

 

  • PM विश्वकर्मा योजना स्कीम में 18 व्यवसाय  मेंशन किए गए हैं , स्कीम के जरिए बेहद लोगों को अपने खुद का बिजनेस करने का अवसर मिलेगा।
  • PM विश्वकर्मा योजना  के जरिए शहरी तथा ग्रामीण सब लोगोंको इस योजना का लाभ उठाने मै फायदा मिलेगा।
  • पीएम विश्वकर्मा योजना में कारपेंटर नाव बनाने वाले, लोहार, खिलौना बनाने वाले,सोनार, मूर्तिकार  और अन्य सामान बनाने वाले हर एक इस योजना में शामिल है।
     

PM विश्वकर्मा योजना की प्रक्रिया

इस योजना की जानकारी देते हुए वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण जी की और से ये कहा गया कि इस योजना की तरफ से हर कारीगर को सरकार बिना कुछ दिए बिना गिरवी रखे बिना मॉरिस 5% ब्याज दर पे 3 लाख तक का लोन देगी इसका फ़ायदा हर कारीगर को होगा।

इस योजना की शुरुआत में 1 लाख तक का कर्जा दिया जायेगा, उसकेबाद इस कर्ज का भुज्तान करने के बाद वापस सै उसे 2 लाख तक का कर्जा दीया जायेगा।


  इस PM VISHWAKARMA YOJANA मे 5 दिनों की training दी जाती है. इसके साथ 500 रुपए प्रति दिन भुक्तान इस ट्रेनिंग में किया जाएगा और उस training के बाद आपको सर्टिफिकेट दीया जाता है। हर कारीगर ने इस योजना का लाभ जरूर लेना चाहिए।


सरकार आपको मार्केटिंग के लिए सहायता करती है,और टूलकिट इंसेंटिव के रूप मे 15000 रुपए की ग्रांड दी जाने वाली है ।


  इसके साथ ही digital लेन देन को प्रमोट करने के लिए 1 रुपए प्रति लेन देन तक का इंसेंटिव 100 लेन देन तक दीया जाने वाला है इस वजह से इस योजना का बहुत फ़ायदा लोगोको होगा।

How to apply PM Vishwakarma Yojana (pm विश्वकर्मा योजना को अप्लाई करे)

 

अब हम यह जानले कि इस योजना को हम कैसे apply करे हमे इस योजना के लिए इस http://PMVISHWAKARMA.GOV.IN  ऑफिशियल वेबसाइट पर जाके apply करना है।
यहां से फॉर्म भर सकते हैं।आप आपने कॉमन service center जाके वो आपका आवेदन कर देगे। आप खुद लॉगिन करके देख भी सकते हैं की आपका process हुआ कि नही।

Documets For PM Vishwakarma Yojana (pm विश्वकर्मा योजना के लिए जरूरी डॉक्युमेंट्स)

 

इस योजना के लिए आपको क्या क्या डॉक्युमेंट्स लगते है ये नीचे दिए गए हैं।इसके लिए documents कुछ ख़ास नहीं लगते।
   सबसे पहिले योजन का लाभ लेने के लिए आपके पास आपका खुद का account number होना जरूरी है।
इसके बाद आपको आपका आधार कार्ड, mobile number राशन कार्ड ये मेंडेटरी है। आगर आपके पास राशन कार्ड नही है तो आप आधार कार्ड से भी process कर सकते हैं।

Conclusion


हमें आशा है कि आपको इस आर्टिकल PM विश्वकर्मा योजना । PM VISHWAKARMA YOJANA से विश्वकर्मा योजना के लिए अप्लाई कैसे करें और उसके लिए क्या-क्या डॉक्यूमेंट जरूरी है इन सब के बारे में आपको पता चला होगा। क्या आपके पास अभी भी प्रश्न है या क्या आप और तरीका जानते हैं कृपया इसे हमारे कमेंट सेक्शन में लिखें।

देखें

 

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *